Volume : 5, Issue : 6, JUN 2019

हिंदी भाषा के विकास में हिंदी सिनेमा का योगदान

अभिषेक त्रिपाठी

Abstract

हिंदी सिनेमा अपने विस्तृत आयामों के साथ न सिर्फ़ भारत में, अपितु विश्व के अनेक देशों में अपनी पहुँच कायम कर चुका है। अपने मनोरंजन रूप में यह देश-परदेश हर जगह लोकप्रिय है। हिंदी सिनेमा की भाषा आम बोलचाल वाली व्यावहारिक हिंदी है, जिसमें आवश्यकतानुरूप अंग्रेज़ी तक के शब्दों का प्रयोग आसानी से दिखाई पड़ जाता है। हिंदी सिनेमा की भाषा ने साहित्यिक हिंदी की जटिलता के सामने हिंदी का एक सहज, सरल रूप प्रस्तुत किया है। यद्यपि बहुत बार यह रूप हिंदी भाषा को विकृत भी करता है, तथापि भाषा के विस्तार की दृष्टि से देखा जाए तो इसने हिंदी भाषा के दायरे को विस्तार भी दिया है। इस शोध आलेख में हिंदी भाषा के विकास में हिंदी सिनेमा के संबद्ध योगदान के पड़ताल की कोशिश की गई है, ताकि आगे हिंदी भाषा के उत्थान में हिंदी सिनेमा की भूमिका और सशक्त बनाया जा सके।

Keywords

हिंदी भाषा, हिंदी सिनेमा

Article : Download PDF

Cite This Article

Article No : 20

Number of Downloads : 0

References

नकवी, हेना. (2010).  पत्रकारिता एवं जनसंचार. आगरा : उपकार प्रकाशन.

दिलचस्प. (2009). हिंदी सिनेमा के सौ वर्ष. नई दिल्ली : भारतीय पुस्तक परिषद.

सिन्हा, प्रसून. (2006). भारतीय सिनेमा… एक अनंत यात्रा. दिल्ली : श्री नटराज प्रकाशन.

पारख, जवरीमल्ल. (2006). हिन्दी सिनेमा का समाजशास्त्र. नई दिल्ली : ग्रंथ शिल्पी.

गगनांचल, जुलाई-अक्टूबर 2015