Volume : 7, Issue : 2, FEB 2021

SAMAVAAY SHIKSHA KA SHAIKSHIK UPALABDHI PAR PRABHAAV (समवाय शिक्षा का शैक्षिक उपलब्धि पर प्रभाव)

DR. TARA KUMAWAT (डॉ. तारा कुंमावत)

Abstract

आजाद भारत में बुनियादी तालीम को मुख्य धारा की शिक्षा बनाने के बजाए इसको हाशिए पर पटक दिया गया है, यह विडम्बना की बात है। लेकिन एक सार्थक जीवन जीने के लिए व्यक्ति को शिक्षत होना आवशयक है और इस आवशयकता की पूर्ति के लिए गुणात्मक शिक्षा की जरूरत है। उद्योग को यदि विद्यालयी विषयों से समन्वित किया जाए तो चुनौती न दी जा सकने वाली शिक्षण पद्धति बदली जा सकती है और शिक्षा को जीवन की आवशयकताओं से जोड़ा जा सकता है।

Keywords

Article : Download PDF

Cite This Article

Article No : 10

Number of Downloads : 26

References

1. श्रीवास्तव, वर्मा, डी.एन. प्रिति (1971), “मनोविज्ञान और शिक्षा में सांख्यिकी, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा।
2. सुखिया, एस.पी. (1984), “शैक्षिक अनुसंधान के मूल तत्व, विनोद पुस्तक मन्दिर आगरा।
3. सुखिया, एस.पी. मेहरोत्रा (1970), शैक्षिक अनुसंधान के मूल तत्व“, विनोद पुस्तक मन्दिर आगरा।
4. सांख्यधर एवं पालीवाल (1958), “बुनियादी शिक्षण“, नवयुग ग्रन्थ कुटी, बीकानेर, राजस्थान, पेज नं. 55-69
5. जोशी एवं बर्डिया, (1961), “बुनियादी शिक्षा (सिद्धांत एवं मनोविज्ञान)“, राजस्थान स्टोर्स, उदयपुर राजस्थान, पेज नं 40-44, 57-59, 72-75
6. राजयजादा. बी.एस. (1979), शिक्षा में अनुसंधान के आवश्यक तत्व, राजस्थान हिन्दी ग्रन्थ अकादमी, जयपुर।
7. त्मबवेम (1967), श्थ्नदकंउमदजंस त्मेमंतबी ैजंजपेजपबे वित ठमींअपवनतंस ैबपमदबमश् छमू ल्वता, भ्ंसज त्पअम भ्नेज ंदक ॅपदेजवद प्दम.

8. शर्मा. आर.ए. (1996), “शिक्षा तथा मनोविज्ञान में परा तथा अपरा साख्यिकी आरलाल बुक डिपो, मेरठ।
9. मजूमदार धीरेन्द्र (1900), “समय ग्राम सेवा की ओर“, अखिल भारत सर्व संघ प्रकाशन, राजपाट काशी पेज नं 150-165 178-214. 311-3251
10. कोल, नरेन्द्र नाथ (1956), भारत और अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संस्था“ श्री गोपीनाथ सेठ, नवीन प्रेस दिल्ली, पेज नं 1-14 25-521
11. कालेलकर काकासाहब (1957) “बापू की कलम से नवजीवन प्रकाशन,
12. सुमन श्री रामनाथ (1952), गांधी वाणी“, साधना सदन, लूकरगंज, इलाहाबाद।
13. डॉ सेन गुप्त मंजी एवं डी. धोटे अशोक कुमार (1987), “स्कूल शिक्षा में कार्यानुभव एन.सी.ई.आर.टी. नई दिल्ली।
14. प्रभात एस. व्ही (2010), “नवी तालीम (नया परिप्रेक्ष्य )“, एन.सी.ई.आर.टी. सिरिल्स पब्लिकेशन नई दिल्ली।
15. जैन यशपाल (1970), “गांधी चिन्तन, गांधी शांति प्रतिष्ठान संस्था साहित्य मण्डल प्रकाशन नई दिल्ली।
16. मित्तल,ए.के. (2008), इलेक्ट्रीशियन थ्योरी“, अरिहन्त प्रकाशन, मेरठ।